शनिवार, 16 अगस्त 2014

“His sophism as moralist, sociologist and legislator reaches new heights…. Seduced by a false religion, beheld as a criminal, I reduce our labour to very little. Let us creat few laws; but let them be good…..”

अर्थात इस पंक्ति में साद का दर्शन यह  है कि सबसे पहले एक नैतिक शुन्य तैयार करो, फिर उसे नई चेतना से भरो-चेतना जिसे प्रभुतासंपन्न लोग अपनी सुविधा, अपनी शर्तों पर तैयार नियमावलियों से ’मैनुफैक्चर’ करते हैं। (सीवर ऎंड वेनहाउस: द माक्यु द साद, पृ.११३) हिंदी में प्राय: सब मूल्य स्त्रीलिंग ही हैं, समाज चाहता है कि इन सारे मूल्यों का निवेशन सिर्फ स्त्री में हो! क्योंकि स्त्री संस्कृति की प्रहरी है; संस्कृति जो कि संप्रभुओं की क्रीतदासी है। यह तर्क कहीं से भी न्यायोचित नहीं दीखता। अगर दुनिया की सारी उच्चशयता का ठीका स्त्रियाँ ले भी ले तो वे प्रेम करने लायक अर्थात अपनी नैतिक कद-काठी का पुरुष कहाँ से पाएँगी ? अपने से कमतर पुरुष से स्नेह तो किया जा सकता है, उस पर ममता तो लुटाई जा सकती है, किंतु प्रेम नही किया जा सकता।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें