बुधवार, 30 जनवरी 2019

एक भेंट ऐसा भी



बागबान बड़े प्यार से अपने बाग़ की बागवानी करता है ;जब उसका पौध लहलहाता है फलता-फूलता है,बागवान खुशी से झूम उठता है | आज अपनी भी स्थिति कुछ ऐसी ही थी | मेरा विद्यार्थी नवीन मेरे घर आया | जनाब भारतीय सेना में है, जम्मू-कश्मीर में बरखुरदार की पोस्टिंग है | जब ये बारहवीं कक्षा में था ;- हमेशा मुझसे डांट खाता था | बड़ा ही आलसी और सुस्त किस्म का था | बैक बेंचर तथा कक्षा में सोना इसका पंसदीदा काम था | मैं इसे हमेशा लम्बा चौड़ा भाषण देती थी कहती थी hibernation से निकलो खाना और सोना जानवरों का काम है हम मनुष्य बुद्धिजीवी हैं | तब जाकर कुछ क्षण के लिए सक्रिय हो जाता था | तेलंगाना निजामबाद से होने के कारण इसकी हिन्दी में दक्खिनी पुट है | बड़े ही इत्मीनान भाव से कहता था ‘मैम आप टेंशन नको लो’ मैं कुछ करूंगा ! वाकई इसने कर दिखाया !! भारतीय सेना में अधिकारी है लेकिन आज भी उतना ही आलसी ! घर आता है चेहरे पर जटा-जुट अच्छे से उगा लेता है | इसकी बानगी आप मेरे साथ इसकी आज की तस्वीर में देख सकते हैं | 
फोन पर जब भी बात करता है इसका पहला सम्बोधन ‘जय हिन्द’ मैम ही रहता है | भारत-पाकिस्तान के सरहद पर बन्दा फिलहाल तैनात है | पहली पोस्टिंग इसने वहीं लिया है | बड़ी ही निगेबान है इसकी आँखे | एकदम चौकन्ना और चौकसी से दुश्मनों से देश की हिफाजत करता है | आतंकियों से बाएं पाँव में गोली खाकर फिलहाल अपने घर पर तीन महीने से स्वास्थ्य लाभ कर रहा है | कल जब इसने फोन किया तो इसने कहा मैम  सिकन्दराबाद कैंटोनमेंट में मुझे कुछ आवश्यक काम है; आप घर पर रहेंगी क्या ? मैं आप से मिलना चाहता हूँ | मैंने कहा बिल्कुल तुम्हारा अपना घर है आ जाओ | तीन बजे इसने फोन किया; गूगल देवता के माध्यम से मैंने अपने फ्लैट का लाइव लोकेशन इसे भेज दिया | आधे घंटे में बरखुरदार मेरे घर पर हाजिर | पाँव छुने के साथ जय हिन्द मैम उसका चिरपरिचित अभिवादन |  मेरे घर में एक सेकेण्ड भी बैठा नहीं रसोई में मेरे पीछे आकर खड़ा हो गया | मैंने कहा पाँव ठीक नहीं है जाकर बैठ जाओ मैं आती हूँ| हँसते हुए कहने लगा हम फौजियों के लिए ये छोटी-मोटी बात है |  फिर डाइनिंग टेबल पर उसका पसंदीदा कचौरी-आलू और  इलायची अदरक वाली चाय दुनिया जहां की बातें | हाँ चाय वह प्याला में डालकर फूंक-फूंककर पी रह था ! मैंने पूछा ये क्या है ? ऐसे क्यों चाय सर-सर कर पी रहे हो ? कप में आराम से पीओ | हँसने लगा कहा मैम डीयुटी में इतना समय नहीं मिलता और चाय भी एक ही बार मिलता है | इसलिए ऐसे ही आदत हो गया है | आप भी ऐसे पीकर देखो | फिर हमने भी अपनी चाय प्याला में डाल दी और सर-सर के ध्वनि का आनन्द लेते हुए चाय पीने लगे| कक्षा में यह सबसे लम्बा था इसलिए यह अपने मित्र मंडली में पट्ठा फेम से जाना जाता था | आज भी तो ऐसे ही है बिलकुल नहीं बदला | जब चलने लगा मैंने कहा अपना ख्याल रखना घर पहुँचते ही टेक्स्ट कर देना | चिरपरिचित अंदाज में उसने कहा मैम आप टेन्शन नहीं लो | 

प्यार से एक चपत मैंने उसके पीठ पर लगा दिया | ढेर सारा आशीष, खुब तरक्की करो, आगे बढ़ो कर्मयोगी बनो मेरे फौजी – शुभकामनाएं              

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें